सोमवार, 29 अक्तूबर 2012

कर्मनाशाएं!

सागर को कर समर्पित सर्वस्व,
सूख जाती हैं निस्त्राएँ;
लेकिन इनका अस्तित्व,
बनाये रखता है ससागर को;
पर कभी-कभी कुछ निस्त्राएँ;
जो होती हैं पवित्र और निर्मल
बन जाती हैं ,
छोटी- बड़ी कर्मनाशाएं!
जिनकी हारें कभी-कभी
हो जाया करती हैं असम्भव!
***************************
निस्त्राएँ=नदियाँ !

9 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी उम्दा पोस्ट बुधवार (31-10-12) को चर्चा मंच पर | जरूर पधारें | सूचनार्थ |

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर भावाभिव्यक्ति .धीरेन्द्र जी निस्त्राएँ शब्द शब्दकोष भी देखा नहीं मिला इसका अर्थ बताने का कष्ट करें तो हमारे जैसे पाठकों को सुविधा रहेगी.आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. सागर की गरिमा भाव पूर्ण पोस्ट बधाई

    उत्तर देंहटाएं

अन्य पठनीय रचनाएँ!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...